Monday, October 4, 2010

देखो हँसना नहीं

यूँ ही एक दिन

दिल ने कहा
चलो करें कुछ नया....

9 comments:

माधव( Madhav) said...

वाह , क्या बात है

रावेंद्रकुमार रवि said...

----------------------------------------
स्पर्शी बिटिया तो बहुत सुंदर लग रही है!
----------------------------------------

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत-बहुत आशीर्वाद!
--
आपकी इस पोस्ट की चर्चा
बाल चर्चा मंच पर भी की गई है!
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/10/21.html

चैतन्य शर्मा said...

वाह स्पर्श.... क्यूट लग रहे हो.... :)

रानीविशाल said...

बताओ भला हम क्यों हसेंगे ....आप तो इतने प्याले प्याले लग रहे हो :)
प्यार
नन्ही ब्लॉगर
अनुष्का

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

आज 29/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर (सुनीता शानू जी की प्रस्तुति में) लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

ओके बॉस नहीं हँसेंगे....

लेकिन आप अच्छे बहुत लग रहे हो ।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

ऐसे ही नया करते रहो

anju(anu) choudhary said...

वाह